Kabaddi Game Details in Hindi

Kabaddi Game Details in Hindi | कबड्डी खेल के नियम की पूरी जानकारी

Kabaddi Game Details in Hindi- आजकल कबड्डी खेल का नाम बड़े जोरो शोरो से हो रहा है। और इसका सबसे बड़ा कारण ये है की आजकल कबड्डी को टेलीविजन, मोबाइल इत्यादि प्लेटफार्म में प्रसारित किया जा रहा है। और लोग उन्हें देखकर एंटरटेन तो होते ही है साथ में उनके मन में कबड्डी खेलने की भी इच्छा होने लगती है। वैसे ऐसा नहीं है की कबड्डी का क्रेज यानि की इसमें इंट्रेस्ट टीवी में देखने से ही आया है बल्कि ये भारत के प्राचीन खेलो में से एक है जिससे पहले के लोग या फिर कहे तो सभी लोग अपने जीवन में एक बार जरूर खेले होंगे।

Kabaddi Game Details in Hindi
Kabaddi Game Details in Hindi | कबड्डी खेल के नियम

पुराने समय में जब ज्यादा खेलो का अविष्कार नहीं हुआ था साथ ही खेल सामग्रीयो का भी बहुत ज्यादा विस्तार नहीं हुआ था तब कबड्डी जैसे खेल ही ज्यादा खेले जाते थे। क्योकि ये एक ऐसा खेल है जिसे खेलने के लिए किसी भी अन्य समान की अवश्यकता नहीं होती। कहने का आशय ये ही की जैसे अपने देखा होगा क्रिकेट खेलने के लिए बैट, गेंद, आदि की आवश्यकता होती है, ठीक वैसे ही फुटबॉल खेलने के लिए फुटबॉल की जरूरत होती है। लेकिन कबड्डी खेलने के लिए ऐसी किसी भी साधन की जरूरत नहीं होती है। यदि कुछ खिलाड़ी एक साथ जमा हो जाये तो कबड्डी को आराम से खेला जा सकता है।

आज का हमारा लेख कबड्डी के खेल से ही जुडा हुआ है। इस लेख में हम कबड्डी खेल के नियम की पूरी जानकारी (Kabaddi Game Details in Hindi) & (Kabaddi Khel Ke Niyam) के बारे में विस्तार से जानेंगे। अतः आपको पूरी जानकारी मिले इसके लिए इस लेख को पूरा पढ़े –

कबड्डी खेल क्या है? (Kabaddi Game Details in Hindi)

कबड्डी भारत की पारम्परिक खेलों में से एक है, और विकिपीडिया की माने तो कबड्डी भारत के राष्ट्रीय खेलों में से भी एक है। इस बात से आप अंदाजा लगा सकते है की भारत में कबड्डी का कितना महत्वपूर्ण स्थान है। अगर राज्य स्तर पर बात की जाये तो कबड्डी शब्द का इस्तेमाल भारत के उत्तरी राज्यों में किया जाता है। वहीं दक्षिण भारत में इसलिए खेल को “चेडूगुडू” के नाम से जाना जाता है। भारत के पूर्वी क्षेत्रों में इस खेल को “हुतुतू” के नाम से भी जाना जाता है।

केवल भारत में ही नहीं बल्कि कबड्डी तो भारत के पड़ोसी देशो जैसे – पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, श्रीलंका में भी खेला जाता है। और उन देशो में भी इस खेल को उतने ही आनंद से खेला जाता है जैसा की भारत में।

कबड्डी खेल के नियम की पूरी जानकारी – (Kabaddi Khel Ke Niyam)

कबड्डी खेल क्या है? इस सवाल का उत्तर आपको मिल गया है अब चलिए इस खेल के नियमो की भी चर्चा कर लेते है। यहाँ हम कबड्डी खेल के नियम को पॉइंट्स में जानेंगे। तो आईये बिना देरी किये जानते है –

• कबड्डी खेल दो टीमों के मध्य में खेला जाता है। यानि की इस खेल को दो टीम्स एक दूसरे के प्रतिद्वन्दी बनकर खेलते है।

• अगर टीम्स में खिलाड़ियों की बात की जाये तो दोनों टीमों में 12-12 खिलाड़ी होते है लेकिन दोनों पक्षो में 7-7 खिलाड़ी खेलने के लिए मैदान में आते है।

• पुरुषो के लिए खेल 20-20 मिनट की दो अवधियों में होता है। यानि की 20 मिनट में एक इनिंग होता है। और फिर टीम्स को 5 मिनट का विश्राम दिया जाता है, फिर 20 मिनट में दूसरी इनिंग को खेला जाता है।

• वहीं अगर महिलाओ की बात करे तो 15-15 मिनट की अवधि में कबड्डी को खेल जाता है।

• दूसरे इनिंग के लिए दोनों पक्ष अपना स्थान बदल लेते है। यानि की दोनों टीम्स अपने स्थान को अदल -बदल लेते है।

• दोनों पक्षो के लिए आयताकार कोष्ठ बनाया जाता है और प्रत्येक कोष्ठ में पीछे की तरफ एक लाइन बना दिया जाता है।

• वहीं दोनों ओर एक बोनस लाइन भी बनाई जाती है।

• अगर डिफेंस करने वाले टीम का कोई खिलाड़ी अपने कोष्ठ के अंतिम लाइन को क्रॉस कर जाता है तो सामने वाली टीम को एक अंक दिया जाता है। इसके साथ ही डिफेन्स करने वाली टीम का वह खिलाड़ी भी आउट करार दिया जाता है।

• वहीं अगर रेडर सामने वाली टीम के कोष्ठ में स्थित बोनस लाइन को टच कर दे तो उसे एक पॉइंट मिलता है।

• रेडर लगातार कबड्डी-कबड्डी बोलता है, अगर उसने कही भी ये बोलना बंद किया तो वह आउट माना जायेगा।

• वहीं एक साथ एक ही खिलाड़ी रेडर बनके जा सकता है, अगर दो खिलाड़ी रेड करने चले गए तो अंपायर (रेफरी) द्वारा उसे वापस भेज दिया जाता है या फिर आउट भी दिया जा सकता है।

• किसी भी पक्ष का खिलाड़ी अगर कबड्डी कोर्ट से बाहर चला जाये तो उसे आउट करार दिया जाता है।

• अगर दोनों में कोई एक टीम दूसरी टीम को ऑल आउट कर देता है तो पहली टीम (ऑल आउट करने वाली टीम) को एक लोना (2पॉइंट्स) मिलते है।

• अगर किसी भी पक्ष का खिलाड़ी दुर्व्यवहार करता है तो रेफरी द्वारा उसे चेतावनी दी जाती है या फिर सामने वाले टीम को एक पॉइंट दे दिया जाता है। रेफरी द्वारा उस खिलाड़ी को उस गेम के लिए प्रतिबंधित भी किया जा सकता है।

• अगर रेडर किसी नियम का उलंघन करता है है तो पहले उसे चेतवानी दी जाती है वहीं दोबारा नियम का उलंघन करने पर रेडर को आउट और दूसरे टीम को एक पॉइंट दे दिया जाता है।

• किसी विशेष परिस्थिति में कप्तान दो टाइम-आउट ले सकता है, जिनकी अवधि 30-30 सेकंड की होती है, लेकिन इस अवधि में कोई भी खिलाड़ी अपनी जगह नही छोड़ सकता है।

• दोनों टीमों के कप्तानों के पास अपने खिलाड़ियों को वापस बुला लेने का अधिकार होता है। इसके बदले में जितने खिलाड़ियों को वापस बुलाया गया है उतने पॉइंट सामने वाली टीम को दे दिया जाता है।

• खेल में एक रेफरी, दो एम्पायर, एक अंक लेखक और दो सहायक अंक लेखक मौजूद होते हैं।

• अगर किसी खिलाड़ी को बदला गया है तो उसे दोबारा उस खेल को खेलने का अधिकार नहीं होता है।

• अगर दोनों टीमों का स्कोर बराबर होता है तो अंत में 5-5 रेड दिया जाता है और जों टीम ज्यादा रेड लेने में सफल होती है उसे विजेता घोषित किया जाता है।

कबड्डी के बारे में कुछ अन्य जानकारी :-

कबड्डी खेल का पहला कॉम्पिटिशन 1938 में कोलकाता में हुआ था। और इसके बाद 1952 में भारतीय कबड्डी संघ की स्थापना हुई। 1982 में कबड्डी को एशियाई खेलों (Asian Games) में शामिल किया गया।

FAQ: – Kabaddi Khel Ke Niyam

Q- कबड्डी टीम में कितने खिलाड़ी होते हैं ?

Ans- मैदान पर कुल 7 खिलाडी खेलते है , और किसी भी टीम में कुल खिलाडी की संख्या 12 होती है ।

Q- कबड्डी का मैदान किस प्रकार होता है ?

Ans- पुरुष और महिला खिलाड़ी के लिए मैदान अलग अलग होता है ।

Q – कबड्डी का जन्म कब हुआ?

ANS – इस खेल का शुरुवात प्राचीन भारत के तमिलनाडु में हुआ और आज के जमाने का खेल कबड्डी इसी का संशोधित रूप है। इस खेल का शुरुवात का इसका कोई प्रमाणित समय नही है।

निष्कर्ष (Conclusion) :-

कबड्डी एक एवरग्रीन गेम है जिसका रोमांच कभी भी कम नहीं हुआ है। इसे हर कोई अपने उम्र में खेल चूका होता है और आजकल तो इंटरनेशनल लेवल पर कबड्डी का विस्तार हो रहा है जों की हम भारतीयों के लिए गर्व का विषय है। आजकल तो कबड्डी के खेल को जापान, चीन, कोरिया जैसे देशो में भी खेला जा रहा है।

हमने इस लेख में आपको कबड्डी खेल के नियम की पूरी जानकारी (Kabaddi Khel Ke Niyam) & (Kabaddi Game Details in Hindi) के बारे में सम्पूर्ण जानकारी देने का प्रयत्न किया है। हम आशा करते है आपको इस विषय में पूरी जानकारी मिली होंगी।

Read More Oyesonam : –

Leave a Reply