Duniya Ke Saat Ajoobe Kaun Kaun se Hai Puri Jankari 100% Hindi Mei

Duniya Ke Saat Ajoobe Kaun Kaun se Hai – आज के अपने इस पोस्ट में हम आपको दुनिया के साथ अजूबो के बारे में बतायेगे। जैसा की हम सभी जानते है इस पूरी दुनिया में ७ अजूबा [ 7 wonders name] है।आज के अपने इस पोस्ट में हम उनके नाम के बारे में बतायेगे , जिन लोगो को नहीं मालूम है , उनके जानकरी को बढ़ाने में मदद मिलेगा।

दुनिया के अजूबे पुराने ज़माने के चीज़ो से ही चुना जाता है। दुनिया के साथ अजूबे को चुनने का ख्याल साल २२०० पहले हेरोडोटस & विद्वान कैलिमाचस को आया था।

Duniya Ke Saat Ajoobe Kaun Kaun se Hai

विश्व में पहली सूची एलेक्जेंड्रिया के संग्रहालय में इतिहासकार हेरोडोटस और एक महान विद्वान कैलिमाचस ने बनाई थी, लेकिन किसी कारणवश उनके संदर्भ ही बचे हैं। उनके द्वारा लिखे गए लेख नहीं बचे हैं।

उनके द्वारा बनाई गई सात अजूबों (7 ajuba name list) के नाम नीचे वर्णित है :-

  • एलेक्ज़ेन्ड्रिया का लाइटहाऊस
  • रहोड्स का कोल्लोस्सस
  • मौस्सोल्लस का मौसलियम हैलिकैर्नैस्सस
  • आर्टेमिस का मंदिर इफिसस में
  • ओलिम्पिया का ज़ियूस मूरत
  • बेबीलोन का हेंगिग गार्डन
  • गिज़ा का महान पिरामिड

लेकिन आप यह जानकर हैरान होंगे ऊपर वर्णित इन अजूबों में से केवल गीजा के पिरामिड ही आज के समय में मौजूद हैं, इतिहासकार और विद्वान द्वारा यह जो सूची बनाई गई थी यह मध्यकालीन युग में बनाया गया था ।

विश्व के सात नए आश्चर्य (Duniya Ke Saat Ajoobe Kaun Kaun Se Hai)

Duniya Ke Saat Ajoobe Kaun Kaun se Hai
Duniya Ke Saat Ajoobe Kaun Kaun se Hai

साल 2001 में स्विट्जरलैंड ने दुनिया के नए सात अजूबे के नाम सामने लाने का पहल की शुरुआत किया, इस मिशन को पूरा करने के लिए स्विट्जरलैंड ने बकायदा एक फाउंडेशन की स्थापना की, उस फाउंडेशन ने दुनिया के 200 अजूबों के नाम एक वेबसाइट पर दर्ज कराया था। जिसको बाद में वोटिंग के द्वारा, दुनिया के सात अजूबों का चयन किया गया था, इस वोटिंग प्रक्रिया काफी दिनों तक चली थी जिसका रिजल्ट 2007 में जारी किया गया था।

अब आपको हम उन सात अजूबों के नाम बताते हैं जिनको वोटिंग के द्वारा चुना गया था।

7 wonders of the world names in hindi

Duniya Ke Saat Ajoobe Kaun Kaun se Hai
Duniya Ke Saat Ajoobe Kaun Kaun se Hai
  • रोमन कोलोज़ियम
  • माछु पिछ्छु
  • चिचन इट्ज़ा
  • रिडीमर क्रिस्ट
  • पैट्रा
  • चीन की विशाल दिवार
  • ताज महल

ताज महल

Taj Mahal

भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के आगरा शहर में ताज महल स्थित है, इस खूबसूरत महल का निर्माण 1632 में किया गया था,

ताजमहल को बनाने में लगभग 15 साल से भी अधिक का समय लगा था, ताजमहल को मुगल शासक शाहजहां ने बनवाया था,ताजमहल जो कि सफेद संगमरमर का एक महल है इसके लिए पूरी दुनिया से सफेद संगमरमर को मंगाया गया था.

ताजमहल के चारों तरफ बगीचे हैं जिसमें तरह-तरह की फूल पौधे लगे हुए हैं, ताजमहल को देखने के लिए दुनिया के हर देश से साल में लाखों की संख्या में पर्यटक बाहर से ताजमहल को देखने आते हैं चांदनी रात में ताजमहल पर पड़ने वाली चांद की रोशनी यों से होने वाली चमक ताजमहल की सुंदरता में चार चांद लगा देता है.

चीन की विशाल दिवार

चीन की विशाल दिवार

चीन की दीवाल इतनी बड़ी है कि इसे अंतरिक्ष से भी आसानी से देखा जा सकता है , यह दीवार अनेक राज्यों के राजाओं ने अपने राज्य पर होने वाले आक्रमण से बचने के लिए बनाया था जिसे आगे चलकर के एक में मिला दिया गया इस दीवाल का निर्माण सातवीं शताब्दी से प्रारंभ होकर चलावे शताब्दी तक हुआ था, यह दीवार पूर्वी चीन से लेकर पश्चिमी चीन तक फैला हुआ है, जिसकी लंबाई 6400 किलोमीटर है इस दीवार की ऊंचाई 35 ft है,इस दीवाल को बनाने में 2000000 से 30 लाख तक लोगों ने अपना पूरा जीवन लगा दिया.

पैट्रा

पैट्रा

पेट्रा जो की जॉर्डन के म’आन प्रान्त में स्थित एक ऐतिहासिक और पुराणी नगरी है, जो पूरी दुनिया में अपने पत्थर से तराशी गई इमारतों और जलवाहन प्रणाली के लिए प्रसिद्ध है। पेट्रा को छठी शताब्दी ईसापूर्व में नबातियों ने अपनी राजधानी के तौर पर स्थापित किया था।पेट्रा का निर्माण कार्य १२०० ईसा पूर्व के आसपास शुरू हुआ था ।

रिडीमर क्रिस्ट

रिडीमर क्रिस्ट

यह ब्राज़ील के रियो डी जेनेरो में स्थापित एक ईसा मसीह की एक पुरानी प्रतिमा है जिसको दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा आर्ट डेको स्टैच्यू माना जाता है।यह प्रतिमा अपने 9.5 मीटर (31 फीट) आधार सहित 39.6 मीटर (130 फीट) लंबी और 30 मीटर (98 फीट) तक चौड़ी है। इस मूर्ति का कुल वजन 635 टन (700 शॉर्ट टन) है और यह मूर्ति जो की तिजुका फोरेस्ट नेशनल पार्क में कोर्कोवाडो पर्वत की चोटी पर स्थित है। जहाँ से पूरा शहर दिखाई पड़ता है। यह पूरी दुनिया में अपनी तरह की सबसे ऊँची मूर्ति है।

चिचन इट्ज़ा

चिचन इट्ज़ा

चिचन इट्ज़ा जो की कोलम्बस-पूर्व युग में माया सभ्यता द्वारा बनाया गया एक बहुत बड़ा शहर था। चीचेन इट्ज़ा के खंडहर जो की संघीय संपत्ति हैं और चिचन इट्ज़ा स्थल का प्रबंधन मेक्सिको के Instituto Nacional de Antropología e Historia (राष्ट्रीय मानव विज्ञान और इतिहास संस्थान, INAH) द्वारा ही किया जाता है।

माछु पिछ्छु

माछु पिछ्छु

माचू पिच्चू दक्षिण अमेरिकी देश पेरू मे स्थित एक ऐतिहासिक स्थल है , जो की समुन्द्र तल से 2,430 मीटर की ऊँचाई पर उरुबाम्बा घाटी के ऊपर स्थित एक पहाड़ है।उरुबाम्बा घाटी में उरुबाम्बा नदी बहती है। माचू पिच्चू इंका साम्राज्य के सबसे पुराने और अद्भुत प्रतीकों में से एक है। इसको 7 जुलाई 2007 को घोषित विश्व के सात नए आश्चर्यों में शामिल किया गया था।

रोमन कोलोज़ियम

रोमन कोलोज़ियम

इटली देश के रोम नगर के मध्य निर्मित रोमन साम्राज्य का सबसे विशाल और सबसे अद्भुत एलिप्टिकल एंफ़ीथियेटर है।इसका निर्माण तत्कालीन शासक वेस्पियन ने ७०वीं – ७२वीं ईस्वी के मध्य में शुरू किया और ८०वीं ईस्वी में इसको सम्राट टाइटस ने पूरा करवाया था। यह अंडाकार कोलोसियम जिसकी कुल क्षमता ५०,००० दर्शकों की थी, जो उस समय के लिए साधारण बात नहीं थी। इस स्टेडियम में योद्धाओं के बीच खूनी लड़ाईयाँ हुआ करती थीं। जो की मात्र मात्र मनोरंजन के लिए होता था कभी कभी योद्धाओं को जानवरों से भी लड़ना पड़ता था।

FAQ About Duniya Ke Saat Ajoobe

  1. पूरी दुनिया में कितने अजूबे हैं?

    पूरी दुनिया में कुल ७ अजूबा है।भारत का ताजमहल उसमे शामिल है।

  2. 7 अजूबे कौन से है?

    रोमन कोलोज़ियम
    माछु पिछ्छु
    चिचन इट्ज़ा
    रिडीमर क्रिस्ट
    पैट्रा
    चीन की विशाल दिवार
    ताज महल

आखिरी कुछ शब्द इस पोस्ट के बारे में

आज के अपने इस पोस्ट में हमने आपको Duniya Ke Saat Ajoobe Ke Naam /7 wonders of the world names in hindi के बारे में बताया।

इस पोस्ट में हमने दुनिया के नए और पुराने दोनों अजूबो (Duniya Ke Saat Ajoobe) के नाम के बारे में बताया। आशा करते है ये पोस्ट आपको पसंद आएगा।

इस पोस्ट के बारे में अपनी बात बताने के लिए कमेंट बॉक्स में कमेंट जरूर करे।

इस पोस्ट को पढ़ने के लिए दिल से धन्यवाद !!!!

Also Read This One :

Leave a Reply

%d bloggers like this: