Dahlia Flower In Hindi

Dahlia Flower In Hindi | डहेलिया का फूल और पौधे की जानकरी

Dahlia flower in Hindi : -बात अगर पूजा पाठ की हो, विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों की हो, सजावट की हो तो इन सभी में एक बात कॉमन होती है फूल। सभी प्रकार के पार्टी फंक्शन में सजावट को चार चाँद यही फूल लगाते है। वहीं कोई भी ऐसा पूजा नहीं है जों बिना फूलों के संभव हो। ऐसे में फूलों के महत्ता क्या है इस बात से सभी परिचित है।

दरसल फूलों के बारे में इतनी सारी विशेषताओं को बताने का उद्देश्य ये है, की आज के इस लेख में हम एक बहुत ही आकर्षक ओर सुंदर फूल के बारे में बात करने वाले है। वैसे तो ये फूल भारत में ना के बराबर पाया जाता है। लेकिन हर जगह ना पाये जाने के बावजूद भी इस फूल की लोकप्रियता पुरे विश्व में है।

Dahlia Flower In Hindi
Dahlia Flower In Hindi

आज के इस लेख में हम Dahlia flower in hindi (डहेलिया फूल के बारे में जानकारी) के बारे में बात करेंगे। आपमें से बहुत सारे लोग इस फूल को जानते होंगे वहीं बहुत सारे लोग नहीं भी जानते है, जों नहीं जानते है हमारा ये लेख उन्हें डहेलिया फूल के बारे में सम्पूर्ण जानकारी देगा। इसीलिए अगर आप इसी विषय में Dahlia flower in hindi सर्च कर रहे है तो आप एक दम सही जगह पर आये है यहाँ आपको इस फूल के बारे में सारी जानकारिया दी जायेगा –

डहेलिया के फूल की जानकारी – (Dahlia Flower in Hindi)

डहेलिया (Dahlia flower) एक विदेशी फूल का पौधा है जों की मैक्सिको ओर अमेरिकी क्षेत्रों में मुख्य रूप से पाया जाता है। ये दिखने में बहुत ही आकर्षक फूल होता है वहीं इसका नाम जीवो का वर्गीकरण करने वाले वैज्ञानिक लिनियस द्वारा “डाहल (Dahl)” नामक वनस्पतिक वैज्ञानिक के नाम पर रखा गया। डहेलिया फूल का वैज्ञानिक नाम “डाहलिया हॉर्टेंसिस” है।

विश्व भर में डहेलिया फूल के लगभग 50,000 (50 हजार) से अधिक प्रजातियां पायी जाती है। साथ ही डहेलिया फूल डेजी फ्लॉवर और सूर्यमुखी फूल के परिवार एस्टेरसी परिवार से सम्बन्ध रखता है। ये विभिन्न रंगों जैसे – लाल, गुलाबी, बैगनी, सफ़ेद इत्यादि रंगों में पाये जाते है। डहेलिया फुल की कोई भी प्रजाति नीले रंग में नहीं पायी जाती है।

अगर आकर या साइज की बात की जाये तो एक सामान्य डहेलिया फूल 2 से 3 मीटर तक लम्बा हो सकता है। वहीं डहेलिया फूल (Dahlia flower)की एक विशेष प्रजाति पायी जाती है जिसे बौना डहेलिया कहते है और नामानुसार इसकी लम्बाई सिर्फ आधा मीटर की होती है।

डहेलिया फूल का आकार (Dahlia Flower Size)

ऊपर आपको डहेलिया फूल के पौधों के आकार की चर्चा की गयी है चलिए अब आपको डहेलिया के फूल का आकार बताते है –

तो सामान्य तौर पर डहेलिया के फुल पूर्णरूप से सूर्यमुखी फूल की तरह ही होते है। अगर इस फूल के व्यास की बात की जाये तो डहेलिया फुल का व्यास 5 सेंटीमीटर से लेकर 30 सेंटीमीटर तक हो सकता है। फूल का व्यास इसके प्रजाति पर डिपेंड करता है।

डहेलिया के फूल की एक विशेषता होती है की इसके जड़ से छोटी छोटी कालिया निकलती है जिसमें नया डहेलिया का पौधा उगाने की क्षमता होती है। और इन कलियों का उपयोग दरसल पौधे उगाने के लिए व्यापक तरीके से उपयोग किया भी जा रहा है।

डहेलिया के फूल का उपयोग (Uses of Dahlia Flower in Hindi)

• चकत्ते और त्वचा की दरारों के इलाज के लिए डहेलिया के पंखुड़ियों और कंदों का इस्तेमाल किया।

•  कंदों में एंटीबायोटिक यौगिकों की मात्रा अधिक होती है, इसलिए विभिन्न प्रकार के औषधियों में इसका उपयोग होता है।

• पंखुड़ियों को पीसकर इसका उपयोग डंक और कीड़े के काटने से राहत पाने के लिए किया जाता है।

•  थके हुए पैरों को राहत देने के लिए पंखुड़ियों को भिगो कर पैरो में लगाया जाता है।

• डहेलिया के कुछ फूलों का उपयोग मिर्गी के इलाज के लिए किया जाता है।

• विक्टोरियन युग के दौरान दहलिया धार्मिक संकेत बन गया था, ये विश्वास का प्रतीक माना जाता था।

• इसके अलावा डहेलिया फूल को गिफ्ट में भी बहुत जगह दिया जाता है कहने का मतलब ये है की इन फूलों से बने गुलदस्ते का उपयोग किया जाता है।

डहेलिया के पौधों को कैसे लगाए –

सभी सवालों के जवाब जानने के बाद अब जानने की बारी आती है की इस फूल को कैसे उगाये? वैसे तो ये फूल एक विदेशी प्रजाति का फूल है लेकिन फिर भी इसे हर जगह उगाया जाता है। डहेलिया के फूल को जड़ से निकले कलियों द्वारा या फिर कलम द्वारा भी ऊगा सकते है। यहाँ हम आपको बताएँगे की डहेलिया के फूलों को कलम से कैसे उगाये? और डहेलिया के फूलों को बीज/कली से कैसे उगाये?

डहेलिया के फूलों को कलम से कैसे उगाये?

डहेलिया के फूल (Dahlia Flower )को लगाने से पहले ये जान लेना उचित होगा की डहेलिया का फूल गर्मी के दिनों में ज्यादा पनपता है वहीं अगर ज्यादा ठंडी का मौसम हो तो डहेलिया के फूल मुरझा जाते है।

डहेलिया के फूलों (Dahlia flower)का कलम लगाने के लिए आपको सबसे पहले किसी अन्य डहेलिया के पौधे से कटिंग लगा लेना है। मतलब की कलम काट लेना है ध्यान रहे कलम काटने से पहले उस पेड़ को जल दे, और 4-5 घंटे बाद उससे कटिंग लगाए। आप ऐसे जगह पर कलम का कटिंग लगाए जहाँ 5-6 पत्तियाँ मौजूद हो। फिर इन कटिंग को पानी में भिगोकर रखे आप इन्हे रूटिंग हार्मोन में भी रख सकते है इससे ये सड़न से बचे रहेंगे। अब आपको इन कलम को लगाने के लिए उपजाऊ मिट्टी तैयार करना है, जिसे आप एक गमले में तैयार कर सकते है। फिर मिट्टी में पानी का छिड़काव करके उसे नमियुक्त बनाये। इसके बाद इन कलम को उस गमले के कलम के अनुसार गड्डा करके लगा देना है और ऐसे स्थान पर रखे जहाँ सीधा धुप ना पड़े।

फिर आपको रोजाना इनका देखभाल करना है और जैसे ही कलम से जड़े निकलना शुरू हो जाये उन्हें आप गमले से हटाकर मिट्टी में लगा सकते है।

डहेलिया के फूलों को बीज/कली से कैसे उगाये?

डहेलिया के फूलों को बीज से उगाने के लिए आपको सबसे पहले बीजो को मंगा लेना है। डहेलिया के बीज आपको ऑनलाइन स्टोर्स में मिल जायेंगे। और अगर आप कलियों से इन्हे लगाना चाहते है तो आपके पास पहले से डहेलिया का पौधा होना चाहिए जिनके जड़ो से कली निकली होनी चाहिए । फिर इन कलियों या फिर बीजो के लिए मिट्टी तैयार करे।

मिट्टी कुछ इसप्रकार होनी चाहिए 70% बगीचे की सामान्य मिट्टी , 20% गोबर पुराना खाद और 10% कॉकपिट। फिर इस मिट्टी को एक गमले में रखे। गमले के निचे एक छेद कर दे इससे पेड़ को मिट्टी से पोषक तत्व मिलेंगे। इसके बाद मिट्टी में पानी का छिड़काव करे और इसे नमियुक्त बनाये। ध्यान रहे मिट्टी को एक दम गिला ना करे। फिर बीजो को 1-1.5 इंच के गड्डे करके उस गमले में लगा दे। और फिर नियमित तौर तौर पर उसमे पानी का छिड़काव करे। पानी के छिड़काव के लिए स्प्रे का उपयोग करे सीधे पानी की धार से ना करे। और कुछ और फिर गमले को हल्के धुप में सम्पर्क में रखे। कुछ दिनों में उससे डहेलिया का पौधा तैयार हो जायेगा।

निष्कर्ष (Conclusion) :-

डहेलिया का फूल (Dahlia flower) बहुत की प्राचीन फूल है और इसका उपयोग बहुत पहले से होता आ रहा है। इस लेख में हमने आपको डहेलिया के फूल की जानकारी – (Dahlia flower in hindi) के बारे में जानकारी देने का प्रयास किया है। इसके साथ ही हमने इस लेख में डहेलिया के पौधों को कैसे लगाए? इस सवाल का भी जवाब दिया है। आशा करते है आपको पूरी जानकारी मिली होंगी।

Read More

Leave a Reply